योगी आदित्यनाथ के राज में भी यूपी में

यूपी न्यूज़, सुल्तानपुर। कादीपुर तहसील में अखंडनगर थाने के अतंर्गत गांव पतार खास के 1159 क पर जोकि नवीन पर्ती है और तालाब (1159 ख) के किनारे की जमीन है अवैध निर्माण हुआ है। इस अवैध निर्माण को रोकने को लिए तहसील के एसडीएम ने 3 महीने पहले आदेश दिया था। लेकिन अवैध निर्माण का कार्य पूरा हो गया और पुलिस, प्रशासन ने दबंगो के डर से अवैध निर्माण को रोकना तो दूर वहां जाकर देखा भी नहीं। कादीपुर तहसील के एसडीएम ने दूसरा आदेश 2 दिन पहले फिर दिया कि इस जमीन से अतिक्रमण हटाया जाए और अवैध निर्माण से जिन लोगों का तालाब में जाने वाला पानी रुक रहा है उसे साफ कराया जाए। लेकिन यूपी शासन, प्रशासन का फिर से वही हाल है। अभी तक किसी ने भी वहां जाकर सुध लेने की जहमत नहीं उठाई है। फोटो में यूपी सुल्तानपुर के एसडीएम के आदेश की प्रति है जिसमे कि उन्होने साफ लिखा है कि इस निर्माण को बलपूर्वक रोका जाए। आदेश के बावजूद निर्माण पूरा हुए 2 महीने हो चुके हैं।

दरअसल इस जमीन पर गांव के दो दबंग भाईयों काशीनाथ पांडेय और बंशीधर पांडेय का कब्जा है। जिसने अपनी दबंगई से यहां पर एसडीएम के आदेश को दरकिनार करते हुए अवैध निर्माण करवाया है। और यह योगी के राज में हो रहा है जहां पर कि भू-माफिया और गुंडों के खिलाफ एक्शन लेने का सबसे बड़ा दावा किया जा रहा है।

योगी आदित्यनाथ के राज में भी यूपी में दबंगई

सुल्तानपुरः देश की रक्षा करने में जीवन गुजार चुके सैनिकों के नाम के आगे जब भूतपूर्व लग जाता है तो शायद उसे जीने का हक भी नहीं रह जाता। क्योंकि उसकी न तो जिले के कप्तान सुनते हैं न थाना प्रभारी और फिर चौकी इंचार्जों की क्या मजाल है कि उनकी परेशानी वो खत्म करने की कोशिश भी कर जाएं। आमजन की रक्षा की कसम खाकर वर्दीधारण करने वाले खाकी वालों के रवैये से सभी अवगत हैं। अब जरा खादी वालों की भी सुन लीजिए। जमीन हड़पना खादी धारकों की फितरत है यह तो सभी जानते हैं। बस उनको थोड़े पैसे या फिर जमीन का लालच दे दीजिए।

सुल्तानपुर के कादीपुर तहसील के अंखडनगर थाना क्षेत्र स्थित गांव पतार खास में दबंगई का ऐसा मामला सामने आया है जिसने कि योगी राज की पोल खोल कर रख दी है। आरोप है कि पतार खास गांव में रहने वाले 65 साल के बुजुर्ग भूतपूर्व सैनिक बनवारी पांडेय का पिछले कुछ महीनों से पड़ोस में ही रहने वाले दो दबंग और गुंडा प्रवृत्ति के दो भाईयों काशीनाथ पांडेय और बंसीधर पांडेय ने जीना मुहालकर दिया है। गुंडा प्रवृत्ति के यह लोग आये दिन घर में घुसकर गालियां देना, मारने के लिए कट्टा और लाठी निकालना, जान से मारने की धमकी देना तो आम बात हो गई है। आलम यह है कि इन बुजुर्ग का परिवार दबंगों के डर से शाम होने के बाद घर से बाहर नहीं निकलता।

क्या है मामला?

बनवारी पांडेय के घर के बगल में ग्राम समाज की जमीन है जो कि नवीन परती है और इस पर किसी भी तरह का निर्माण अवैध है। लेकिन इन दबंगों ने जबरदस्ती इनके घर के रास्ते को रोकते हुए इस जमीन पर अवैध निर्माण करवाना शुरू कर दिया। उनके अवैध निर्माण की वजह से बुजुर्ग भूतपूर्व सैनिक के घर के आने जाने का रास्ता रुक गया। जब बुजुर्ग ने उनसे ऐसा करने के लिए मना किया तो उन लोगों ने गंदी-गंदी गालियां देते हुए उनसे मारपीट की। इसके बाद भूतपूर्व सैनिक न्याय की आस में थाने गए वहीं प्रार्थना-पत्र दिया। उस समय थाना अखंडनगर पर एसओ मदनलाल थे। उन्होंने आवेदन पर कार्रवाई करने की बात लिखते हुए उसे चौकी पर भिजवा दिया। लेकिन आज तक उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। जब इस संबंध में उन्होंने तात्कालीन एसपी पवन कुमार से बात की तो उन्होंने बस कोरे आश्वासन के अलावा और कुछ नहीं दिया। कार्रवाई के नाम पर तो एक कांस्टेबल तक मौका-ए-वारदात पर निरीक्षण के लिए नहीं आया। क्या कांस्टेबल, चौकी इंचार्ज, सीओ और एसपी हर किसी से निवेदन कर-कर के भूतपूर्व सैनिक थक गए लेकिन किसी ने भी इस गरीब की सुध लेने की जहमत नहीं उठाई।

कोई कार्रवाई नहीं होने के बाद बनवारी पांडेय एसडीएम के पास अपना प्रार्थना-पत्र लेकर गए। जहां से एसडीएम ने साफ आदेश लिखकर दिया कि इस अवैध निर्माण को बलपूर्वक रोका जाए। लेकिन रोकने की बात तो दूर खुद एसडीएम के आदेश की धज्जियां उड़ाते हुए कांस्टेबल महेश पांडेय ने वहां पर खड़े होकर घर बनवाया। अवैध निर्माण रोकने की बात तो दूर पुलिस वाले खुद खड़े होकर अवैध निर्माण करवा दिए।

इतने के बाद भी जब उन दबंगों का मन नहीं भरा तो जिद के मारे बुजुर्ग के घर का पानी जहां से निकलकर गांव के तालाब में जाता था उस जगह पर ईंट का चट्टा खड़ा कर दिया। जिसकी वजह से जब पानी बरसता है को सारा पानी इनके घर में आता है और पूरा घर पानी से भर जाता है। जब इसके लिए फिर से इन्होंने चौकी और थाने में शिकायत की तो परिणाम वही ढाक के तीन पात। पुलिस वाले देखने भी आए और इसको गलत मानते हुए ईंट को हटाने की बात कही लेकिन बंसी पांडेय ने पुलिस वालों को धमकाते हुए कहा कि अगर ये ईंट यहां से किसी ने हटाया तो ‘कत्ल’ हो जाएगा।
जिसके बाद उस दबंग के सामने पुलिस भी अपने आपको असहाय महसूस करने लगी और बिना किसी निर्णय के वहां से चली गई। बुजुर्ग की परेशानी अभी भी जस की तस बनी हुई है। ये बुजुर्ग अभी भी न्याय की आस में दर-दर भटक रहे हैं ठोकर खा रहे हैं। और ऐसा योगी राज में हो रहा है जो कि पूरी दुनिया में अपने सुशासन की ढोल बजा रहे हैं।

पुलिस भी डरती है इन दबंगों से!

इन दबंगों का खौफ इतना है कि लगता है कि पुलिस भी इनसे डरती है। दोनों दबंगों में से काशीनाथ पांडेय होमगार्ड है जबकि बंसी पांडेय अपने आपको भाजपा का कार्यकर्ता बताता है। यही कारण है कि दोनों पुलिस पर दबाव डलवाकर अपने मन मुताबिक काम करवा लेते हैं। इनकी पुलिस थाने और चौकी में इतनी चलती है कि ये अपने मन से गलत रिपोर्ट बनवा कर ऊपर अधिकारियों को भिजवा देते हैं। पूरे मामले में भाजपा के ब्लॉक अध्यक्ष राम आसरे त्रिपाठी इन दबंगों का साथ दे रहे हैं। यहां तक राम आसरे त्रिपाठी खुद अपने गुंडों के साथ बनवारी पांडेय के यहां पहुंचकर उन्हें धमकी दे चुके हैं। इन दोनों दबंगों के आतंक का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इनके खिलाफ आज तक एक एफआईआर भी कोई नहीं लिखवा पाया है।

यह पढ़े:

रिलायंस जियो पर भी जीएसटी का असर, होंगे 1 जुलाई से महंगे प्लान्स

Similar Posts

Leave a Reply